July 19, 2024

Awadh Speed News

Just another WordPress site

शिक्षा रत्न सम्मान-2024 के लिए बांदा के दो शिक्षक चयनित–सहारनपुर में सम्मानित होंगे –प्रमोद दीक्षित मलय एवं प्रदीप कुमार बाथम–#

1 min read

शिक्षा रत्न सम्मान-2024 के लिए बांदा के दो शिक्षक चयनित

  • सहारनपुर में सम्मानित होंगे प्रमोद दीक्षित मलय एवं प्रदीप कुमार बाथम

अतर्रा (बांदा)। मोस्ट प्रोमाइजिंग यूनिवर्सिटी इन इंडिया पुरस्कार से सम्मानित उत्तर भारत के प्रमुख उच्च शिक्षा संस्थान ग्लोकल यूनिवर्सिटी सहारनपुर द्वारा आयोजित अखिल भारतीय शिक्षा सम्मेलन 2024 में बांदा जनपद से शिक्षक एवं साहित्यकार प्रमोद दीक्षित मलय का चयन शिक्षा रत्न सम्मान-2024 हेतु किया गया है। साथ ही बांदा जनपद के अन्य रचनाधर्मी नवाचारी शिक्षक प्रदीप कुमार बाथम को भी शिक्षा रत्न सम्मान 2024 प्रदान किया जायेगा। रविवार 14 जुलाई, 2024 को ग्लोकल यूनिवर्सिटी सहारनपुर में आयोजित भव्य शिक्षक सम्मान समारोह के मुख्य अतिथि योगगुरु पद्मश्री स्वामी भारत भूषण होंगे। अन्य सम्मानित अतिथियों में पद्मश्री चौधरी सेठपाल सिंह, अखिलेश कुमार मिश्रा (विशेष सचिव, उच्च शिक्षा, उ.प्र.) एवं पद्मश्री डॉ. राजन सक्सेना आदि की प्रेरक गरिमामय उपस्थिति रहेगी।
उक्त जानकारी देते हुए सम्मानित शिक्षक प्रमोद दीक्षित मलय ने बताया की शिवालिक पर्वत श्रंखला की तलहटी मेँ मां शाकुम्भरी देवी के पावन तीर्थ स्थल काष्ठ नगरी सहारनपुर में स्थापित ग्लोकल यूनिवर्सिटी, सहारनपुर के वाइस चांसलर प्रोफेसर डॉ. पंकज कुमार मिश्रा द्वारा गत दिवस पत्र भेज कर शिक्षा क्षेत्र में उत्कृष्ट योगदान एवं समर्पण हेतु ‘शिक्षा रत्न सम्मान-2024’ हेतु चयनित होने की सूचना दी गई है। सम्मान समारोह 14 जुलाई को ग्लोकल यूनिवर्सिटी में आयोजित किया जायेगा। उल्लेखनीय है कि शिक्षक साहित्यकार प्रमोद दीक्षित मलय की दो पुस्तकें ‘शिक्षा के पथ पर’ एवं ‘शब्द कसौटी पर’ प्रकाशित हो चुकी हैं। महकते गीत, पहला दिन, प्रकृति के आंगन में, कोरोनाकाल में कविता, राष्ट्र साधना के पथिक, क्रांतिपथ के राही, विद्यालय में एक दिन, यात्री हुए हम, पहला दिन तथा धरा सुने शुभ गीत का सम्पादन किया है। देश की प्रमुख पत्र-पत्रिकाओं में नियमित लेखन एवं आकाशवाणी केंद्र छतरपुर से रचनाओं का प्रसारण होता है। उत्तराखंड से प्रकाशित ‘शैक्षिक दखल’ की संपादकीय टीम में हैं। स्वप्रेरित रचनाधर्मी शिक्षक-शिक्षिकाओं के मैत्री समूह “शैक्षिक संवाद मंच” एवं श्रीमती रामबाई दीक्षित स्मृति शिक्षा एवं लेखक सम्मान के संस्थापक हैं। इसी प्रकार बांदा के कमासिन विकास खंड के पूर्व माध्यमिक विद्यालय ममसी खुर्द के शिक्षक प्रदीप कुमार बाथम कला, नवाचारी गतिविधियों एवं सांस्कृतिक कार्यक्रमों के आयोजन में दक्ष हैं, जिन्हें पूर्व में भी तमाम सम्मान प्राप्त हो चुके हैं। दोनों शिक्षकों को ‘शिक्षा रत्न सम्मान-2024’ हेतु चयनित होने पर जनपद के शिक्षा अधिकारियों, शिक्षक-शिक्षिकाओं, साहित्यकार, समाजसेवी एवं कलासाधकों ने बधाई प्रेषित कर खुशी व्यक्त की है।

खबर.. प्रमोद दीक्षित. मलय.की कलम

अपनी बात आमजनमानस तक पहुँचाने का सशक्त माध्यम अवध स्पीड न्यूज

समस्त भारतवासियों से अनुरोध🙏-वृक्ष नहीं होंगे तो बादलों को कौन आमंत्रित करेगा-वृक्ष है -तो जल है🌧️आक्सीजन बाबा-रामकृष्ण अवस्थी-शिक्षा मित्र 🇮🇳 ( बेटा माँ भारती का)🇮🇳-प्राथमिक विद्यालय खुरहण्ड-क्षेत्र-महुआ जनपद -बाँदा (उत्तर प्रदेश) के स्वतः 🌳वृक्षारोपण अभियान को सभी आगे बढाएं🌳- एक सदस्य 🌳-एक वृक्ष स्वतः लगाएं🌳 ।। स्वतः गुठली बैंक बनाकर पौंध तैयार करें, 🌱एक दूसरे को पौंधा दान देकर 🌱धरा को हराभरा बनाएं🌱।। घर-घर तुलसी 🌿.हर घर तुलसी🌿।।🌽सेहत का राज-मोटा अनाज🌽।।🧘‍♂️योग को दैनिक दिनचर्या का हिस्सा बनाएं🧘‍♀️।।☔
संपर्क सूत्र-9695638703


••

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *