July 19, 2024

Awadh Speed News

Just another WordPress site

कीचड़ के रास्ते से गुजरने को मजबूर स्कूली बच्चे व ग्रामीण

1 min read
Spread the love

जलभराव और कीचड़ के रास्ते से गुजरने को मजबूर स्कूली बच्चे व ग्रामीण।

मिल्कीपुर, अयोध्या।
विकासखंड मिल्कीपुर के किनौली गांव में लगा खड़ंजा मार्ग पर जलभराव और कीचड़ ग्रामीणों की परेशानी का सबब बना हुआ है। ग्रामीण जलभराव और कीचड़ से होकर गुजरने को मजबूर हैं। ग्रामीणों द्वारा उक्त खड़ंजा मार्ग को मरम्मत कराए जाने हेतु ग्राम प्रधान से कई बार अनुरोध किया गया लेकिन उनके द्वारा कई सालों से यही आश्वासन दिया जा रहा है कि बजट आने पर ठीक करा देने का आश्वासन विगत 8 सालों से दिया जा रहा। जिसके बाद ग्रामीण ब्लॉक के अधिकारियों से मिलकर उक्त मार्ग को मरम्मत कराए जाने हेतु कई बार मौखिक व लिखित शिकायत भी किया गया। लेकिन आज तक उक्त मार्ग से ग्रामीणों को कीचड़ व जल भराव से निजात नहीं मिल सका है।
किनौली गांव निवासी पंकज तिवारी, अतुल शर्मा, अखिलेश तिवारी, उदय राज यादव, दीपक शुक्ला, बोध राज तिवारी, अमर पंडित, हरिनाथ शर्मा, दीपक शर्मा, राम बक्स यादव, फतेह बहादुर यादव व राधेश्याम तिवारी उर्फ फौजी सहित दर्जनों लोगों का कहना है कि पूर्व प्रधान सुमन कुमारी द्वारा करीब 15 साल पूर्व किनौली से सोनस के लिए खड़ंजा मार्ग का निर्माण कराया गया था। जिसके बाद उक्त मार्ग का कभी मरम्मत कार्य नहीं कराया गया है। जिसके चलते उक्त मार्ग काफी जर्जर होने से हमेशा कीचड़ व जल भराव रहने से जानलेवा जैसी बड़ी बीमारी पैदा होने की आशंका बनी हुई है। बरसात के दिनों में यहां जल भराव होने से नाली का गंदा पानी लोगों के घरों में प्रवेश कर जाता है। खड़ंजा मार्ग पर पंकज तिवारी के घर से बोध राज तिवारी के घर तक हमेशा कीचड़ व जल भराव रहता है। ग्रामीणों का यह भी कहना है कि उक्त मार्ग पर जल भराव होने से नन्हे-मुन्ने बच्चों को विद्यालय जाने के लिए जलभराव और कीचड़ से होकर गुजरना पड़ता है। यही नहीं यहां रहने वाले बाइक स्वामियों को अपनी बाइक अन्य ग्रामीण के घर खड़ी करनी पड़ती है जिससे ग्रामीणों में काफी रोष व्याप्त है। ग्रामीणों का कहना है कि यदि जल भराव व कीचड़ से निजात नहीं मिला तो मजबूर हो कर जिलाधिकारी कार्यालय पर धरना प्रदर्शन किया जाएगा। जिसकी संपूर्ण जिम्मेदारी प्रधान व ब्लाक के अधिकारियों की होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *